शेयर बाजार में निवेश कैसे करें

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? शेयर बाजार (share market) में निवेश करने के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जैसे शेयर के भाव, शेयर में निवेश का ज्ञान, अनुभवी व्यक्तिओं से बातचित और शेयर बाजार की विशेष जानकारी आदि।

निवेश हर कोई कर सकता है क्युकि निवेश के लिए पैसा लगाना होता है जो हर कोई लगा देगा, परन्तु शेयर बाजार का ज्ञान प्राप्त करना है किसी के बस की बात नहीं होती। शेयर बाजार उतार – चढाव वाला निवेश है जहां पाने से ज्यादा खोने का डर रहता है। शेयर बाजार जोखिम भरा बाजार है इसलिए यहां पर वही व्यक्ति निवेश में सफल होता है जो शेयर बाजार का खिलाडी है।

Share Bazar Nivesh - शेयर बाजार में निवेश कैसे करें
Share Bazar Nivesh – शेयर बाजार में निवेश कैसे करें

अब शेयर बाजार में निवेश करने के सुरक्षित तरीके भी आ गए है जैसे SIP में निवेश

अब हम शेयर में निवेश करने के लिए क्या – करना चाहिए? शेयर खरीदने के लिए किन चीजों की जरुरत होती है? शेयर बाजार में निवेश कैसे करते है। इस प्रकार शेयर में निवेश से सम्बंधित सभी जानकारी इस लेख में समझाता हु ताकि आपको शेयर बाजार के बारे में खुछ अच्छी जानकारी प्राप्त हो सके।

शेयर बाजार में निवेश करने का तरीका

शेयरों में या शेयर बाजार में निवेश करना कोई बड़ी बात नहीं है, यह बहुत आसान और सुरक्षित है। शेयर बाजार में निवेश करने के लिए, आपको इन चरणों का पालन करना होगा

  • आपके पास शेयर खरीदने के लिए पर्याप्त धन होना जरुरी है।
  • शेयर खरीदने और बेचने के लिए आपके पास डीमैट खाता भी होना जरुरी है।
  • आपको सेकेंडरी शेयर मार्केट प्रक्रिया के तहत अपना डीमैट खाता खोलना होगा।
  • यह डीमैट खाता आपका ट्रेडिंग खाता है जो आपके बैंक खाते से जुड़ा/संबद्ध है।
  • फिर अपने (निवेशक) ट्रेडिंग खाते में लॉग इन करें।
  • अब, आप अपनी पसंद के अनुसार आसानी से शेयर खरीद या बेच सकते हैं।

अब आपके पास वो सब कुछ है जो एक निवेशक के पास होना चाहिए इसलिए आपको शेयर बाजार में निवेश करने के लिए पूर्ण जानकारी होने चाहिए जैसे शेयर क्या होते है? शेयर कैसे ख़रीदे जाते है? शेयर को कब खरीदना चाहिए? शेयर किस कंपनी के खरीदने चाहिए? शेयर बाजार में कितने का निवेश करना चाहिए और शेयर बाजार में किसको निवेश करना चाहिए आदि।

Share Kya Hai

सबसे पहले जानते है की शेयर क्या होते है? क्यों की शेयर के बारे में जानकारी नहीं होने के कारन हमको निवेश करने में भी परेशानी आएगी इसलिए सबसे पहले शेयर के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए।

किसी NSE या BSE में listed कंपनी के द्वारा बाजार से धन जुटाने के लिए कंपनी का कुछ मालिकाना हक दूसरों को देने का तरीका है शेयर। शेयर का मतलब कंपनी के हिस्सेदार या मालिक। जितने ज्यादा शेयर खरीदोगे उतने ही ज्यादा कंपनी का मालिकाना हक मिलेगा।

कंपनी को व्यापार करने के लिए धन की जरुरत होती है जो शेयर को बेचकर धन जुटाया जाता है और शेयर खरीदने वालों को कंपनी के शेयर होल्डर्स मतलब कंपनी के लाभांश के हिस्सेदार। कंपनी में हिस्सेदारी मिलने से कंपनी में लाभ और हानि के भागीदार बन जाते है।

Share Ke Prakar

भारत के शेयर बाजार में Equity शेयर भी शामिल करते है तो शेयर मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते है –

  1. इक्विटी शेयर (Equity Share)
  2. परेफरेंस शेयर (Preference Share)
  3. डीवीआर शेयर (DVR Share)

इक्विटी शेयर (Equity Share) – स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनी द्वारा जारी किये जाने वाले शेयर को इक्विटी शेयर कहते है। इस प्रकार के शेयर ज्यादा विश्वशनीय और लाभ प्राप्त करने वाले माने जाते है इसलिए सबसे ज्यादा इन्ही शेयर पर निवेश किया जाता है। यही कारन है की इक्विटी शेयर ट्रेंडिंग में होते है।

परेफरेंस शेयर (Preference Share) – Preference Share खरीदने वालों को कंपनी में मीटिंग में वोटिंग का अधिकार नहीं मिलता है इसलिए ये वोटिंग नहीं कर सकते है और ना ही कंपनी की मीटिंग में शामिल हो सकते है। Preference Share holders का मुनाफा पहले से ही तय होता है जो वर्ष के अंत में मिल जाता है। इस प्रकार के शेयर में निवेश करने से लाभांश का अंश तय होने की वजह से ज्यादा लाभ और हानि का डर नहीं रहता है।

डीवीआर शेयर (DVR Share) – DVR Share holders को भी कंपनी मीटिंग में वोटिंग का अधिकार नहीं मिलता, परन्तु इक्विटी की तरह शेयर का लाभ जरूर मिलता है। इस प्रकार ये शेयर अलग प्रकार के होते है। DVR Share holders को वोटिंग के अधिकार सिमित दिए जाते है। DVR Share holders के सिमित वोटिंग के अधिकार के कारन सभी मामलों में दखल अंदाजी नहीं कर सकते है।

About Share Market

  • शेयर बाजार को – स्टॉक मार्केट और इक्विटी मार्केट में भी माना जाता है।
  • शेयर बाजार उन खरीदारों और विक्रेताओं की संख्या के साथ केंद्रित है जो केवल शेयरों में रुचि रखते हैं।
  • सरल शब्दों में, हम कह सकते हैं – शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है जहां निवेशकों की पसंद के अनुसार शेयरों का लेनदेन होता था।
  • शेयर बाजार उस बाजार का प्रतिनिधित्व करता है जहां शेयरों के आदान-प्रदान की नियमित गतिविधियां हितों के अनुसार होती हैं।
  • संक्षेप में, शेयर बाजार वह स्थान है जहां शेयर का व्यापार किया जाता है।

Share Market Ke Prakar

  • प्राथमिक बाजार – इस प्राथमिक बाजार में शेयर का निर्गम/मूल्य निश्चित मूल्य या बुक मूल्य पर आधारित होगा। बाजार के तहत कंपनी (सार्वजनिक कंपनी) को 200 से अधिक व्यक्तियों को शेयर आवंटित करना होता है जबकि निजी कंपनी में 200 से कम व्यक्ति को शेयर आवंटित करना होता है।
  • द्वितीयक बाजार – द्वितीयक बाजार एक ऐसा बाजार है जो काउंटर (ओटीसी) के माध्यम से व्यापार का आदान-प्रदान करता है। द्वितीयक बाजार को “नीलामी बाजार” के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इसमें एक्सचेंजों के माध्यम से होने वाले सभी लेनदेन शामिल होते हैं और इसमें कारोबार होता है।

निष्कर्ष

अगर आप शेयर बाजार में निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो आपको यह लेख सहायता करेगा क्यों की इस लेख में शेयर और शेयर बाजार के बारे में जानकारी दी गयी है जो निवेशक को निवेश करने से पहले जानना जरुरी होता है। मैं आशा करता हु की आपको ये शेयर के बारे में ब्लॉग पोस्ट पसंद आयी होगी और आप इसे अपने दोस्तों को जरूर भेजें ताकि वे भी शेयर में निवेश के बारे में हिंदी में जानकारी प्राप्त कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *