Sensex and Nifty शेयर बाजार क्या है?

शेयर बाजार में Sensex और Nifty दो प्रमुख भारतीय सूचकांक हैं। शेयर बाजार में Sensex और Nifty को अंग्रेजी में लॉर्ज कैप इंडेक्स भी कहते है। Nifty का full form National Stock Exchange of India है जो NSE से जुड़ा हुआ है। BSE का full form बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है जो BSE से जुड़ा जुड़ा हुआ है। ये दोनों शेयर बाजार के stock बाजार में कम – ज्यादा को मापने के काम आते है। आप जब निफ्टी कहते है तो उसका मतलब निफ्टी 50 होता है।

Know How Sensex and Nifty are Calculated: आप खबरों और अख़बारों में पढ़ते है कि आज शेयर बाजार में भाव गिरे और निवेशकों को करोड़ों का घाटा हुआ या फिर शेयर बाजार में तेजी के कारन निवेशकों को अरबों का लाभ हुआ। इस प्रकार की ख़बरों का आंकलन इन्ही दो मापकों द्वारा किया जाता है। ये दोनों stock market का मूल्यांकन करने का कार्य करते है। इसी से पता चल जाता है की बाजार में कैसे और क्या चल रहा है।

शेयर बाजार में Sensex क्या है

हिंदी भाषा में इसे संवेदी सूचकांक भी कहते हैं और अंग्रेजी में सेंसेक्स शब्द सेंसेटिव और इंडेक्स को मिलाकर बना है। इसे सबसे पहले 2 जनवरी 1986 में अपनाया था। 1991 में श्री दीपक मोहनानी” द्वारा शेयर बाजार में पेश किया गया था। यह 13 विभिन्न क्षेत्रों की 30 कंपनियों के शेयरों में होने वाले उतार-चढ़ाव के बदलाव से सेंसेक्स में उतार-चढ़ाव आता है और इन्हे सेंसेक्स का कैलकुलेशन भी कहा जाता है। ये फ्री फ्लोट मेथड से किया जाता है। आपको तो जानकारी होगी की सेंसेक्स, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का बेंचमार्क इंडेक्स है, इसीलिए इसे BSE सेंसेक्स भी कहा जाता है।

शेयर बाजार में Nifty क्या है

निफ्टी शब्द नेशनल और फिफ्टी से मिलकर बना है। NIFTY को NSE के लिए 1996 में लाया गया था। और भारत में नवंबर 1994 में निगम की शुरुआत हुई। फिर NIFTY को NSE से जोड़ दिया। यह NSE का इंडेक्स है जो आसान ट्रेडिंग के लिए बनाया गया है। निफ्टी अपने नाम के अनुरूप इसके इंडेक्स में 14 सेक्टर्स की 50 भारतीय कंपनियां शामिल हैं। निफ्टी की गणना फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन के आधार पर की जाती है।

शेयर बाजार में Sensex और Nifty के फायदे

बड़ी – बड़ी कम्पनिया और सरकारी बैंकों इनमे लिस्टेड मतलब इनमें जुडी होती है। जिससे भारत में बाजार और व्यापार का अनुमान लगाना बहुत ही आसान हो जाता है। इनके बिना बाजार का हाल – चाल के बारे में जानना मुश्किल हो जाता है। इसलिए बड़े – बड़े व्यापारियों और निवेशकों को शेयर बाजार में Sensex और Nifty के उतार – चढाव से बाजार का अनुमान लगाने में सहायता करता है। इनसे पिछले एक वर्ष या अधिक समय के व्यापार के बारे में जानकारी मिल जाती है। आज बाजार में क्या चल रहा है? और आनेवाले समय में बाजार का अनुमान भी लगाया जा सकता है।

Sensex and Nifty Calculation

सेंसेक्स ‘फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन मेथड’ का उपयोग करके बीएसई के इंडेक्स की गणना करता है। हालांकि अतीत में, सेंसेक्स ने ‘वेटेड मार्केट कैपिटलाइजेशन मेथड’ का इस्तेमाल किया था। और 1 सितंबर 2003 से सेंसेक्स ‘फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन मेथड’ का उपयोग कर रहा था।

सेंसेक्स ने अपनी गणना के लिए विभिन्न तरीकों का विश्लेषण किया है जिसमें उन्होंने सूचकांक के लिए 30 शेयरों का चयन किया है। इसके बाद उन्होंने इंडेक्स के लिए अपने मूल्य की गणना करने के लिए फ्री फ्लोट का चयन किया।

SENSEX Calculation

Free Float Capitalization Method = Market capitalization X free float factor.

कुल शेयर प्रतिशत जो कंपनी जारी करती है वह फ्री फ्लोट फैक्टर है और वे व्यापार के लिए आम लोगों/जनता के लिए तत्काल उपलब्ध हैं जिसका मतलब कुल बकाया कंपनी शेयरों के लिए है।

इसके अलावा, प्रमोटरों, सरकार आदि को शेयर जारी किए जाते हैं और वे सामान्य रूप से या सामान्य रूप से व्यापार के लिए जारी किए जाते हैं जिसका अर्थ है कि बाजार में शामिल नहीं है। ‘बाजार पूंजीकरण’ शब्द कंपनी के बाजार मूल्य को संदर्भित करता है।

Market Capitalization = Share price (of per share) * Number of shares issued by the company”.

BSE SENSEX Calculation

SENSEX value = (Total free float market capitalization/Base market capitalization) * Base period index value.

NIFTY Calculation

निफ्टी “फ्री फ्लोट और मार्केट कैपिटलाइज़ेशन मेथड” का उपयोग करता है। एनएसई निफ्टी का इंडेक्स स्तर अवधि (विशिष्ट) के लिए इसमें मौजूद स्टॉक के बाजार मूल्य का कुल योग दिखाता है। और निफ्टी इंडेक्स इंडेक्स के लिए अवधि का यह विशिष्ट आधार ३ नवंबर १९९५।

सूत्र इस प्रकार हैं:

  • Market Capitalization = Price x Equity capital”.
  • “Free Float market capitalization = Price *Equity capital x Investable weight factor”.
  • “Index Value = Current market value /(1000 x Base Market capital)”

यह सूत्र न केवल मूल्य की गणना करता है बल्कि निगम की प्रक्रियाओं में किए गए परिवर्तनों पर भी विचार करता है। जैसा कि स्टॉक में परिवर्तन कॉर्पोरेट, राइट इश्यू और बहुत कुछ में विभाजित किया जा सकता है। निफ्टी का शेयर बाजार भारत के बाजार में इसके खिलाफ माप के लिए सभी इक्विटी शेयरों के लिए बेंचमार्क है।

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?

सूचकांक नियमित रूप से रखरखाव जांच पर विचार करता है जो स्थिरता और प्रभावी कार्य सुनिश्चित करता है। यह बेंचमार्क इंडेक्स के भारतीय शेयर बाजार को भी कायम रखता है।

सेंसेक्स और निफ्टी में अंतर

Salient features Sensex and Nifty

सेंसेक्सनिफ्टी
निफ्टी की व्युत्पत्ति ‘नेशनल फिफ्टी’ शब्द से हुई है।सेंसेक्स की व्युत्पत्ति ‘सेंसिटिव इंडेक्स’ शब्द से हुई है।
निफ्टी को 3 नवंबर 1994 को भारत में शामिल किया गया था।सेंसेक्स को भारत में 1996 में शामिल किया गया था।
एनएसई ऑफ इंडिया सब्सिडियरी इंडेक्स एंड सर्विसेज एंड प्रोडक्ट्स लिमिटेड (आईआईएसएल) का मालिक है और फिर निफ्टी का संचालन करता है।सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मालिक है। बीएसई को भारत में ट्रेडिंग का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म माना जाता है।
जैसा कि हम जानते हैं कि निफ्टी एनएसई पर आधारित है। उनका कॉर्पोरेट कार्यालय एक्सचेंज प्लाजा, बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, मुंबई में स्थित है।बीएसई पर सेंसेक्स का आधार। और उनका कॉर्पोरेट कार्यालय दलाल स्ट्रीट, मुंबई में स्थित है।
निफ्टी की आधार अवधि 3 नवंबर 1992 है।सेंसेक्स की आधार अवधि 1978-1979 है।
निफ्टी का बेस वैल्यू 1000 है।सेंसेक्स का बेस वैल्यू 100 है।
निफ्टी की आधार पूंजी 2.06 ट्रिलियन रुपये है।सेंसेक्स की अपनी आधार पूंजी नहीं है।
NSE पर अपने स्टॉक का कारोबार करने वाले NIFTY में शीर्ष 50 स्टॉक शामिल हैं।सेंसेक्स जो बीएसई पर अपने स्टॉक का कारोबार करता है, में शीर्ष 30 स्टॉक शामिल हैं।
निफ्टी 24 सेक्टर की कंपनियों को कवर करता है क्योंकि यह एक व्यापक मार्केट इंडेक्स है।सेंसेक्स में 13 सेक्टर की कंपनियां शामिल हैं।
निफ्टी ने अपनी 1600 कंपनियों को सूचीबद्ध किया है।सेंसेक्स ने 5000 कंपनियों को सूचीबद्ध किया है।

सेंसेक्स और निफ्टी के बीच कोई बड़ा अंतर महत्वपूर्ण नहीं है। निफ्टी और सेंसेक्स दोनों लार्ज कैप है हालांकि, निफ्टी सेंसेक्स की तुलना में अधिक व्यापक है क्योंकि यह विभिन्न प्रकार के लार्ज कैप स्टॉक सूची प्रदान करता है। साथ ही हम देख रहे हैं, भारतीय प्लेटफॉर्म एनएसई पर ज्यादा ट्रेडिंग हो रही है।

Sensex and Nifty क्या है?
Sensex and Nifty क्या है?

भारत में शेयर बाजार क्या है

निष्कर्ष

दोस्तों इस लेख के द्वारा आपने शेयर बाजार के बारे में आंकलन करने वाले सेंसेक्स और निफ्टी के बारे, बीएसई क्या है? निफ्टी क्या है? सेंसेक्स का मतलब क्या होता है? सेंसेक्स और निफ्टी शेयर बाजार में कैसे काम करते है? आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की और अच्छी तरह समझा। आशा करता हु की अब आपको सेंसेक्स और निफ्टी के बारे में अच्छी तरह समझ आ गया होगा। इस लेख को अपने सभी दोस्तों और विशेषकर छात्रों को भेजना ताकि वे सेंसेक्स और निफ्टी के बारे में आसान भाषा में समझ सके। इस सेंसेक्स और निफ्टी के ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *