मुद्रास्फीति क्या है इसके कारण समझाइए

मुद्रास्फीति क्या है इसके कारण समझाइए, मुद्रास्फीति क्या है परिभाषा समझाइए। मुद्रास्फीति क्या है? मुद्रास्फीति को अंग्रेजी में Inflation कहते है। mudra sfiti kya hai.

आज के समय में हमारे देश की अर्थव्यवस्था इतनी खराब हो गई है, जिसका असर हमारे आम जीवन पर भी पड़ता है, क्योंकि लोग महंगाई के बारे में जानते हैं, महंगाई क्या होती है, महंगाई का मतलब हिंदी में, महंगाई के प्रकार, भारत की महंगाई दर आदि नहीं होती। जिससे लोगों को महंगाई की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। Mudra Loan Kya Hai

तो आज इस पोस्ट में हम जानेंगे कि मुद्रास्फीति क्या है, मुद्रास्फीति क्या है meaning in hindi, ताकि हम अपने जीवन में मुद्रास्फीति से छुटकारा पा सकें और अपना जीवन खुशी से जी सकें।

मुद्रास्फीति

मुद्रास्फीति क्या है: मुद्रास्फीति का मुद्रास्फीति से सीधा संबंध है। जब किसी देश की अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में वृद्धि होती है और हमारी मुद्रा के मूल्य में लगातार गिरावट आती है। हम इस चरण को मुद्रास्फीति कहते हैं।

मुद्रास्फीति के विपरीत – यदि हमारे पास ये मुद्रास्फीति उलटा [मुद्रास्फीति विपरीत] है, तो इसे अपस्फीति कहा जाता है, जिस स्थिति में चीजों की कीमतों में गिरावट और पैसे की कीमत में वृद्धि होती है। इस प्रक्रिया को ही मुद्रास्फीति कहा जाता है।

मुद्रास्फीति क्या है समझाइए

मुद्रास्फीति: किसी वस्तु की कीमत में वृद्धि और हमारे पैसे के मूल्य में गिरावट को मुद्रास्फीति कहा जाता है।

सरल भाषा में कहें तो हमारे दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले सामानों के मूल्य में वृद्धि और हमारे रुपये के मूल्य में निरंतर वृद्धि मुद्रास्फीति कहलाती है।

उदाहरण: जब आप बच्चे थे तब आप स्कूल जाते थे और आपने बचपन में स्कूल में पेंसिल का इस्तेमाल किया होगा। क्या आप जानते हैं कि उस समय पेंसिल की कीमत क्या थी? आपको बता दें कि एक नटराज पेंसिल की कीमत मात्र 1 रुपए थी और आज उसी पेंसिल की कीमत 7 रुपए है।

क्या अब वह पेंसिल 1 रुपये में मिल सकती है? अब वही पेंसिल लेने के लिए देने होंगे 7 रुपए, अगर आपने उस समय से आज तक 1 रुपए बचाए होते तो आज 7 रुपए होते, ऐसा बिल्कुल नहीं होता, आज भी इसकी कीमत 1 रुपए है मात्र 1 रुपये का होगा, लेकिन आज वह 1 पेंसिल अलग से खरीदने के लिए आपको उस समय 7 रुपये देने होंगे, जबकि उस समय आपने 7 पेंसिलें खरीदी होंगी।

मुद्रास्फीति के प्रकार

मुद्रास्फीति के प्रकार क्या हैं?

मुद्रास्फीति मुख्यतः चार प्रकार की होती है, जिसके बारे में हम निम्नलिखित को समझने जा रहे हैं:

रेंगती महंगाई (creeping inflation)

रेंगती महंगाई पर सिर्फ 0 से 3 फीसदी के बीच ही नियंत्रण होता है, आसान भाषा में कहें तो 1 साल में महंगाई करीब 10 फीसदी ही बढ़ जाती है।

मुद्रास्फीति चलना (inflation walk)

चलने वाली मुद्रास्फीति केवल 3 से 5 प्रतिशत के बीच नियंत्रित होती है

चल रही मुद्रास्फीति (ongoing or running inflation)

चलती मुद्रास्फीति में 5 से 10 प्रतिशत की सीमा में मुद्रास्फीति शामिल है।

सरपट दौड़ना / अति मुद्रास्फीति (Galloping / Hyper Inflation)

हाइपरइन्फ्लेशन में 10 प्रतिशत से अधिक की दर से मुद्रास्फीति शामिल है, जिसमें मुद्रास्फीति बहुत तेजी से बढ़ती है, अगर हम एक वर्ष के हिसाब से अनुमान लगाते हैं, तो यह हर साल 30 प्रतिशत बढ़ जाती है।

मुद्रास्फीति जनित मंदी (Stagflation )

इसमें महंगाई न तो बढ़ती है और न घटती है

अपस्फीति (Deflation)

इसमें मुद्रास्फीति की दर पूरी तरह से कम हो जाती है, जिससे हमें मुद्रास्फीति के बारे में पता नहीं चलता है और हमारे पैसे का मूल्य स्पष्ट रूप से ज्ञात होता है।

भारत में बढ़ती महंगाई का कारण क्या है?

(भारत में मुद्रास्फीति के कारण) – बढ़ती मुद्रास्फीति के कारण निम्नलिखित हैं:

  • हमारा देश पूरी तरह से विकसित नहीं है।
  • पैसे के बारे में सभी को पूरी जानकारी नहीं होती है।
  • देश में बढ़ती बेरोजगारी।
  • हमारी शिक्षा प्रणाली सही नहीं है।
  • हमारी मुद्रा के मूल्य में गिरावट।
  • किसी चीज की अधिक मांग।

मुद्रास्फीति और अपस्फीति के बीच अंतर

मुद्रास्फीति: वस्तु की मांग उपज से अधिक है।

मुद्रास्फीति

Inflation – 

  • वस्तु की मांग उपज से अधिक है।
  • मुद्रा के मूल्य में गिरावट।
  • शिक्षा का उद्देश्य नौकरी पाना है न कि नौकरी को जन्म देना।

अपस्फीति

Deflation –

  • मांग से अधिक उत्पादन करना।
  • रोजगार के अवसर पैदा करना आदि।
  • मुद्रा के मूल्य में गिरावट।

मुद्रास्फीति FAQ

भारत में पिछले 10 वर्षों में मुद्रास्फीति की दर हिंदी में आज से पिछले 10 वर्षों में भारत की मुद्रास्फीति दर में 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

मुद्रास्फीति दर को मापने के लिए मुद्रास्फीति दर सूत्र क्या है?

मुद्रास्फीति दर मापने का सूत्र – काल्पनिक ब्याज दर – मुद्रास्फीति दर = वास्तविक प्रतिफल दर

मुझे उम्मीद है कि आप सभी इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझ गए होंगे, अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है, तो आप हमें कमेंट में बता सकते हैं, हम आपके सभी सवालों का जवाब जरूर देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.