डीमैट खाता क्या और कितने प्रकार के होते है?

इस लेख में डीमैट खाता (Demat Account) क्या है? डीमैट खाता कैसे काम करता है? डीमैट खाता कितने प्रकार के होते है? डीमैट खाता के लिए पात्रता और नियम तथा डीमैट खाता के लिए बैलेंस आदि की जानकारी दी गयी है।

डीमैट खाता क्या है?

सभी गांव में रहने वाले और नए छात्रों को डीमैट खाता के बारे में जानकारी नहीं होती है इसलिए सबसे पहले जानते है की डीमैट खाता क्या होता है? असल में डीमैट खाता एक प्रकार बैंक खाते जैसा ही होता है। बैंक खाते में रूपये का लेन – देन करते है ठीक उसी प्रकार डीमैट खाता में शेयर का लेन – देन किया जाता है। डीमैट खाता में इलेक्ट्रॉनिक रूप में शेयर को रखा जाता है और इन शेयर को खरीदना तथा बेचने का कार्य डीमैट खाता में किया जाता है।

डीमैट खाते का कार्य

दोस्तों! अब आपको समझ में आ गया होगा की डीमैट खाता क्या होता है और किस कार्य में लिए जाता है। डीमैट खाता का मुख्य कार्य निवेश के लिए शेयर को खरीदने और बेचने में किया जाता है। यह एक प्रकार का निवेश के लिए डीमैट खाता जरुरी होता है। डीमैट खाता उन लोगों के लिए जरुरी होता है जो निवेश करना पसंद करते है। निवेश कई प्रकार के होते है, शेयर में निवेश भी एक प्रकार का निवेश है। डीमैट खाता को खुलवाने का मुख्या उद्देष्य शेयर को खरीदने – बेचने, म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश और डे ट्रेडिंग करना आदि।

डीमैट खाते के प्रकार

डीमैट खाते के तीन प्रकार होते है। इन तीन प्रकार के डीमैट खाते से शेयर बाजार में निवेश का कार्य किया जाता है। डीमैट खाता नहीं होने पर निवेश असंभव है, इसलिए डीमैट खाता अनिवार्य और निवेश की पहली सीढ़ी है। डीमैट खाता खुलवाने की प्रक्रिया आगे इसी लेख में दी गयी है। पहले डीमैट खाता कितने प्रकार का होता है, ये जानना जरुरी है जो इस प्रकार है –

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account)

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account) – इस प्रकार का डीमैट खाता भारतीय जो देश में रहते है और देश में कमाई करते है, वे निवेश करना चाहते है उनके लिए रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account) खुलवाना होता है। रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account) में इलेक्ट्रॉनिक रूप में शेयर को खरीद कर रखा जाता है। शेयर बाजार में निवेश का लेन – देन कर कार्य रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account) में किया जाता है, जो कम समय के लिए हो सकता है जैसे दैनिक व्यापार (intraday trading) और लम्बे समय के लिए जैसे शेयर खरीद कर रखना या म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश लम्बे समय के लिए करना आदि।

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat Account) खुलवाने का तरीका

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat Account) खुलवाने के लिए किसी भी डिपॉजिट्री-CDSL या NSDL पर रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास खुलवा सकते हैं।

रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account)

रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account) – इस प्रकार के डीमैट खाता भारतीय जो विदेश में रह रहे है उन्हें NRI कहते है वे NRI भारतीय शेयर बाजार में निवेश करते है। इस खाते में जॉइंट निवेश की सुविधा होती है जो भारतीय होना चाहिए, परन्तु कहाँ रहता है ये जरुरी नहीं है मतलब भारतीय विदेश में रहते हुए भी रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account) में जॉइंट निवेश कर सकते है। रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account) में विदेश में फण्ड ट्रांसफर करने की अनुमति होती है, परन्तु इसके लिए उनके पास NRI बैंक खाता होना चाहिए।

रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account) खुलवाने का तरीका

  • NRIs को पासपोर्ट की एक कॉपी,
  • PAN कार्ड,
  • वीजा कार्ड,
  • विदेश में रहने का पता,
  • पासपोर्ट साइज फोटो और साथ ही में FEMA डिक्लेरशन,
  • NRE या NRO खाते का कैंसल्ड चेक आदि।

नॉन-रिपाट्रिएबल डीमैट अकाउंट (Non Repatriable Demat account)

जिनकी कमाई भारत और विदेश में है वे NRI नॉन-रिपाट्रिएबल डीमैट अकाउंट (Non Repatriable Demat account) खुलवा सकते है, परन्तु उसके लिए NRO खाते की जरुरत होती है। इस प्रकार के डीमैट खाते से विदेश में फण्ड ट्रांसफर करने की अनुमति नहीं होती है। देश और विदेश की कमाई को प्रबंधित करने के लिए उपयोग में लिया जाता है। विदेश में रह रहे भारतीयों के लिए निवेश की सुविधा प्रधान करने के लिए नॉन-रिपाट्रिएबल डीमैट अकाउंट (Non Repatriable Demat account) की व्यवस्था की गयी है।

डीमैट खाता क्या और कितने प्रकार के होते है?
डीमैट खाता क्या और कितने प्रकार के होते है?

डीमैट खाता FAQ

प्रश्न: डीमैट खाता (Demat Account) क्या है?

उत्तर – डीमैट खाता शेयर को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखने का माध्यम है जिसमे शेयर खरीदकर रखे जाते है और बेचे जाते है।

प्रश्न: डीमैट खाता कैसे काम करता है?

उत्तर – डीमैट खाता ठीक उसी प्रकार कार्य करता है जैसे बैंक का खाता। डीमैट खाता को निवेश के लिए काम में लेते है।

प्रश्न: डीमैट खाता कितने प्रकार के होते है?

उत्तर – डीमैट खाते तीन प्रकार के होते है। Regular, Repatriable और Non – Repatriable डीमैट खाता।

निष्कर्ष

दोस्तों! आपने इस लेख में डीमैट खाता (Demat Account) के बारे में पढ़ा। डीमैट खाता क्या और कितने प्रकार के होते है तथा कोनसा डीमैट खाता किन के लिए होता है, जानकारी इस लेख में पूरी दी गयी है। आशा करता हु की आपको डीमैट खाता (Demat Account) के बारे में पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा होगा। और भी निवेश सम्बंधित लेख इस ब्लॉग में प्रकाशित होंगे इसलिए हमारे बिग निवेश ब्लॉग को नहीं भूलना। इस लेख को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *